पशु-पक्षी समिति

पशु-पक्षी समिति

बुन्देलखंड मध्यभारत का एक भौगोलिक क्षेत्र है। जो उत्तर प्रदेश और मध्यप्रदेश राज्यों के बीच विभाजित है। यह क्षेत्र 23°8-26°3 लेटीट्यूट तथा 78°1-8131 लोगीट्यूट है। यहाँ की वार्षिक वर्षा 938.6-125.0 मि.मी. होती है। बुन्देलखंड के प्रमुख शहरों झाँसी, बाँदा, चित्रकूट, दतिया, टीकमगढ़, ललितपुर, सागर, दमोह, उरई, पन्ना, हमीरपुर, महोबा, नरसिंहपुर और छतरपुर है।

उत्तर भारत के बुन्देलखंड क्षेत्र दो राज्यों, यानी मध्यप्रदेश और उत्तर प्रदेश में शामिल होता है। इसका बड़ा हिस्सा मध्यप्रदेश में पड़ता है। जिसमें 5 जिले अर्थात् दमोह, सागर, छतरपुर, टीकमगढ़ और पन्ना तथा उत्तरप्रदेश में 7 जिले झाँसी, बांदा, चित्रकूट, ललितपुर, उरई, हमीरपुर, महोबा आते हैं। बुन्देलखंड मुख्य रूप से बायोडायरसिटी को लेकर विभिन्नता से भरपूर क्षेत्र है।

जिले राष्ट्रीय उद्यान/अभ्यारण्य वर्ष पशु/पक्षी
सागर नौरादेही 1975 नील बैल, हिरण, मोर, हंस, ब्लैक तेंदुआ, स्वान
दमोह बन्दर, जंगली सुअर, जंगली बुश बटेर
छतरपुर सियार, चिकारा स्लोथ मिनिवेट, सारस
टीकमगढ़ ओरछा वियर चितीदार हिरण, किंगफिशर, उल्लू
पन्ना पन्ना राष्ट्रीय उद्यान 1981 सांभर, मृग, भेड़िया, कठफोड़वा, कलहंस
नरसिंहपुर कुत्ता, लोमड़िया कॉलर स्कोप
दतिया मगरमच्छ पिफाउल
ललितपुर महावीर स्वामी वन्यजीव अभ्यारण 1977 तेंदुआ, नीले बैल, हिरण, कठफोड़वा, कलहंस, नील गाय, सांभर, कॉलर स्कोप
रथ जंगली सुअर बाघ, पिफाउल
हमीरपुर आलस भालू, सांभर मोर, हंस, ब्लैक स्वान
उरई कृष्णमृग, मीर, प्रेरणा जंगली बुश बटेर,
झाँसी 1858 मुर्गी, जंगली, मुर्गी, मिनिवेट, सारस
महोवा विजय सागर चित्रित तीतर, बिल्ली किंगफिशर, उल्लू
बांदा अभ्यारण 1977 और चिंकारा कण्ठ
चित्रकूट रानीपुर अभ्यारण  

यहाँ पर निम्‍न स्तरी उद्यान व अभ्यारण पाए जाते हैं। जहाँ पर पशु, पक्षी भरपूर संख्या में पाए जाते हैं।

पन्ना राष्ट्रीय उद्यान

पन्ना राष्ट्रीय उद्यान खजुराहो से लगभग 27 किलोमीटर की दूरी पर मध्यप्रदेश के केन्द्रीय भारतीय राज्य में स्थित है। पार्क बाघों के साथ ही हिरण और मृग सहित अपने जंगली बिल्लियों के लिए दुनिया भर में जाना जाता है।

नौरादेही वन्यजीव अभ्यारण

मध्यप्रदेश भारत में एक आरक्षित है। यह भारत में चीता पुनः स्थापन के लिए एक सम्भावित साइट है। 1197 वर्ग किलोमीटर के एक क्षेत्र के साथ वन्य जीव अभ्यारण जबलपुर, दमोह और जबलपुर के सागर शहरों के पास स्थित है। यहाँ पाए जाने वाले मुख्य जानवरों बाघ, तेंदुए, लोमड़ी, जंगली कुत्ते, नीले बैल, मगरमच्छ, चिंकारा, सांभर, चीतल, स्लॉथ बीयर है।

ओरछा वन्यजीव अभ्यारण

वर्ष 1994 में स्थापित किया गया था। यह लगभग 46 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला है। यहाँ पर चित्तीदार हिरण, नीले बैल, मोर, जंगली सूअर, बन्दर, सियार, नीलगाय, आदि पाए जाते हैं। वास्तव में ओरछा वन्यजीव अभ्यारण अक्सर मुख्य विदेशी और भारतीय पर्यटकों ने एक पक्षी अभ्यारण के रूप में जाना जाता है पीफाअल तरह सभी दुनिया भर से कई घर में पक्षियों और विभिन्न प्रवासियों भी शामिल है जो ओरछा अभ्यारण में पाया जा सकता है जो लगभग 200 पक्षी प्रजातियाँ हैं, मोर, हंस, ब्लैक स्वान, जंगल बुश वेटर, मिनिवेट, सारस, किंगफिशर, उल्लू, कठफोड़वा, कुछ कलहंस, कॉलर स्कॉप उल्लू आदि पक्षी पाए जाते हैं।

महावीर स्वामी वन्यजीव अभ्यारण

महावीर स्वामी अभ्यारण, उत्तर प्रदेश में कई वन्यजीव अभ्यारणों में से एक है। यह झाँसी से 125 किलोमीटर दूर है। अभ्यारण 5.4 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है। और 1977 में स्थापित हुआ था। पक्षियों की एक किस्म के अलावा तेंदुआ, नीलगाय, जंगली सूअर, सांभर, काला हिरन, नीले बैल, भालू, सियार, लंगूर और बन्दरों में शामिल हैं। यहाँ की यात्रा करने के लिए सबसे अच्छा समय नवम्बर से अप्रैल तक है।

रानी पुर वन्यजीव अभ्यारण

यह अभ्यारण 1977 में स्थापित किया गया था, उत्तर प्रदेश में बांदा जिले के आकर्षणों में से एक है यह 230 से अधिक वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है और यह विविध वन्य जीवन के लिए विख्यात है।

S.No. Species Scientific Name
1. Asian Paradise Flycatcher Terpsiphone paradisi
2. Alexandrine Parakeet Psittacula eupatria
3. Ashy-crowned Sparrowlark Eremopterix grisea
4. Asian Brown Flycatcher Muscicapa dauurica
5. Asian Koel Eudynamys scolopaccea
6. Barn Swallow Hirundo rustica
7. Baya Weaver Ploceus philippinus
8. Black Ibis Pseudibis papillosa
9. Black Stork Ciconia nigra
10. Black-rumped Flameback Dinopium benghalense
11. Brahminy Starling Sturnus pagodarum
12. Brown Fish Owl Bubo zeylonensis
13. Cattle Egret Bubulcus ibis
14. Changeable Hawk Eagle Nisaetus cirrhatus
15. Chestnut-shouldered Petronia Petronia xanthocollis
16. Citrine Wagtail Motacilla citreola
17. Common Coot Fulica atra Linnaeus
18. Common Greenshank Tringa nebularia
19. Common Kestrel Falco tinnunculus
20. Common Kingfisher Alcedo atthis
21. Common Moorhen Gallinula chloropus
22. Common Myna Acridotheres tristis
23. Common Stonechat Saxicola torquata
24. Common Tailorbird Orthotomus sutorius
25. Common Teal Anas crecca
26. Common Woodshrike Tephrodornis pondicerianus
27. Cotton Pygmy Goose Nettapus coromandelianus
28. Crested Serpent Eagle Spilornis cheela
29. Egyptian Vulture Neophron percnopterus
30. Eurasian Collared Dove Streptopelia decaocto
31. Gadwall Anas strepera
32. Golden Oriole Oriolus oriolus
33. Greater Flameback Chrysocolaptes lucidus
34. Green Bee-eater Merops orientalis
35. Grey Francolin Francolinus pondicerianus
36. Grey Hornbill Tockus nasutus
37. Grey Wagtail Motacilla cinerea
38. House Crow Corvus splendens
39. House Sparrow Passer domesticus
40. Indian Cormorant Phalacrocorax fuscicollis
41. Indian Nightjar Caprimulgus asiaticus
42. Indian Peafowl Pavo cristatus
43. Jungle Bush Quail Perdicula asiatica
44. King Vulture Sarcoramphus papa
45. Large Egret Casmerodius albus
46. Large-billed Crow Corvus macrorhynchos
47. Long-billed Vulture Gyps indicus
48. Oriental White-eye Zosterops palpebrosus
49. Paddyfield Pipit Anthus rufulus
50. Painted Stork Mycteria leucocephala
51. Pied Kingfisher Ceryle rudis
52. Plum-headed Parakeet Psittacula cyanocephala
53. Purple Sunbird Nectarinia asiatica
54. Rock Pigeon Columba livia
55. Rose-ringed Parakeet Psittacula krameri
56. Sarus Crane Grus antigone
57. Shikra Accipiter badius
58. Spotted Dove Streptopelia chinensis
59. Yellow Wagtail Motacilla flava
60. Yellow-wattled Lapwing Vanellus malabaricus
पशु-पक्षी समिति
This website uses cookies to improve your experience. By using this website you agree to our Data Protection Policy.
Read more

डॉ वीरेन्द्र कुमार निर्झर जी 

आपने बुन्देली कहावतों का भाषा वैज्ञानिक एवं समाजशास्त्रीय अनुशीलन कर मध्यप्रदेश शासन उच्च शिक्षा विभाग के सेवासदन महाविद्यालय बुरहानपुर मप्र में विभागाध्यक्ष के रुप में पदस्थ रहे।

बुन्देली धरती के सपूत डॉ वीरेन्द्र कुमार निर्झर जी मूलतः महोबा के निवासी हैं। आपने बुन्देली कहावतों का भाषा वैज्ञानिक एवं समाजशास्त्रीय अनुशीलन कर मध्यप्रदेश शासन उच्च शिक्षा विभाग के सेवासदन महाविद्यालय बुरहानपुर मप्र में विभागाध्यक्ष के रुप में पदस्थ रहे। अखिल भारतीय साहित्य परिषद मालवा प्रांत, हिन्दी मंच,मध्यप्रदेश लेखक संघ जिला बुरहानपुर इकाई जैसी अनेक संस्थाओं के अध्यक्ष रहे। आपके नवगीत संग्रह -ओठों पर लगे पहले, सपने हाशियों पर,विप्लव के पल -काव्यसंग्रह, संघर्षों की धूप,ठमक रही चौपाल -दोहा संग्रह, वार्ता के वातायन वार्ता संकलन सहित अनेक पुस्तकों का सम्पादन कार्य किया है। आकाशवाणी के विभिन्न केन्द्रों से कहानी, कविता,रूपक, वार्ताएं प्रसारित हुई। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में शताधिक लेख प्रकाशित हैं। अनेक मंचों से, संस्थाओं से राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय सम्मानों से सम्मानित एवं पुरस्कृत किया गया है। वर्तमान में डॉ जाकिर हुसैन ग्रुप आफ इंस्टीट्यूट बुरहानपुर में निदेशक के रूप में सेवायें दे रहे हैं।

डॉ. उषा मिश्र 

सेवा निवृत वरिष्ठ वैज्ञानिक अधिकारी केमिस्ट्री और टॉक्सिकोलॉजी गृह विभाग, मध्यप्रदेश शासन।

नाम – डा. उषा मिश्रा
पिता – डा.आर.सी अवस्थी
पति – स्व. अशोक मिश्रा
वर्तमान / स्थाई पता – 21, कैंट,
कैंट पोस्ट ऑफिस के सामने,
माल रोड, सागर, मध्य प्रदेश
मो.न. – 9827368244
ई मेल –
[email protected]
व्यवसाय – सेवा निवृत वरिष्ठ वैज्ञानिक अधिकारी ( केमिस्ट्री और टॉक्सिकोलॉजी ) गृह विभाग, मध्यप्रदेश शासन।
शैक्षणिक योग्यता – एम. एससी , पीएच. डी.
शासकीय सेवा में रहते हुए राष्ट्रीय – अंतराष्ट्रीय कान्फ्रेंस में शोध पत्र की प्रस्तुति , मिनिस्ट्री ऑफ़ होम अफेयर, गृह विभाग द्वारा आयोजित वर्क शॉप, सेमिनार और गोष्ठीयों में सार्थक उपस्थिति , पुलिस ट्रेनिंग कॉलेज सागर में आई. पी. एस., डी. एस. पी. एवं अन्य प्रशिक्षणु को विषय सम्बन्धी व्याख्यान दिए।

सेवा निवृति उपरांत कविता एवं लेखन कार्य में उन्मुख, जो कई पत्रिकाओं में प्रकाशित।
भारतीय शिक्षा मंडल महाकौशल प्रान्त से जुड़कर यथा संभव सामजिक चेतना जागरण कार्य हेतु प्रयास रत।